100 Replies to “Zakir khan | Laundon ki fantasy |(thoda unclear sound, use headphones) Subtitles 2016”

  1. Jakir waise bhi apne fans se jyada paiso pe dhyan dene laga hai isiliye publice se jyada private shows urf paid shows pe dhyan de raha hai

  2. niche akhand chutiye sound ki complain kar rahe hain..jbki description me likha ai k sound kharab hai(hindi me bc)

  3. Ak toh itne Tim baad video le kar aye usme bhi voice problem hai plz voice effect chng karke again upload I rqt you sir I am big fan 😔😔😔😔

  4. Whistling 😗 😂 it was too good comedy please continue n make more love u lots thanks 🙏 zakirrrrrr u r awesome 👏 mashallah best of luck for more !!!

  5. Awesome video. I laughed till end 😂🤣. Hilarious.
    For 5hose who are complaining for audio quality, please use good earphones. I used my senheiser earphones and each and every word was clear.

  6. Why u didn't meet people after ur show Mann
    It's fucking heartbreaking
    At least kuch to dealing de Diya karo Karo ki Meri train hai Mai aavi nai mil sakta but I love you guys🙏🙏

  7. Hahahahhahahahahha … Bahut sahi. Starting my day with such good laugh.

    @zakir, tum bahut sahi ho yaar.. hats off. Big Big fan.

  8. Comedy is the greatest stress reliever!

    But for conceiving that expression of comedy,

    a comedian has to transform his inner pain into humor.

    It’s not easy, but the toughest job to live that transformation!!

    Hats off to Mr. Zakir .

    ______________________
    Sudhir K.V

    Author of “B4Success…the revolution within”

    Launched on 12 Dec 2019

    https://youtu.be/_02RgBMICwU

    Amazon.in : https://www.amazon.in/dp/1647335043

    Amazon.com : https://www.amazon.com/dp/1647335043/ref=cm_sw_em_r_mt_dp_U_CzH8DbPWNMQ55

    Amazon.UK:https://www.amazon.co.uk/dp/1647335043/ref=cm_sw_em_r_mt_dp_U_FGH8Db8GF3Z4M

  9. #Fantasy Ki #Explanation Dekh Re Ho Kidhr Ja Raha Hai CHL AA #Epic One #HaqSe🙏🏻👌🏻👏🏻🤣😜😂💏🏖️🤔👎🏻📚😭🙄🤷🏻‍♂️🙋🏻‍♂️♥️😍💯🔥💪🏻🎤✍🏻……………….#ZakirKhan #HaqSeSingle & #CanvasLaughClub

  10. यह इस ज़ाकिर खान की कलम से निकली कविता है..तुम हिन्दू कितने बड़े चूतिया हो जो इस मादरचोद के वीडियो को व्यूज देते हो..खुद पढ़ लो ये मादरचोद तुम्हारे बारे में क्या खयाल रखता है

    अबके जो आओ क़त्ल करने तो अकेले मत आना.
    तुम तलवार, त्रिशूल और कटार ले कर आना.
    हम तालीम, तरक़्क़ी और तहज़ीब ले कर आयेंगे.
    तुम अपनी तक़रीर से हज़ारों की भीड़ जुटाना.
    हम धीमी आवाज़ में एक एक का ज़मीर जगायेंगे
    इसलिए अबके जो आओ क़त्ल करने तो दिन में ही आना.
    रातों में घरों पर निशान मत लगा जाना.
    सोयी हुई बस्ती पर,
    चुपचाप आग मत लगा जाना.
    क्यूँकी,
    कई बार ये नामुराद बच्चे मरते नहीं.
    फिर अपनी मरी हुई माँ की,
    छाती पर बैठ कर भूख से बिलखते हैं.
    दूध की उम्मीद में,
    ख़ून सनी लाशों की कमीज़ें खींचते हैं
    ये ढीठ मरदूद,
    यतीम भी पल जाया करते हैं
    फिर सारी ज़िंदगी शक्लों पर हादसा लिये फिरते हैं
    इसीलिए कह रहा हूँ कि,
    अबके जो आओ क़त्ल करने तो अकेले मत आना.
    क्यूँकी तुमको भी है मालूम
    कि बहोत कमज़ोर है मज़हब तुम्हारा.
    उससे हिफ़ाज़त की ज़रूरत है.
    पढ़ाई, तर्क, आज़ादी और इश्क़ से.
    या हर वो चीज़ जो किसी इंसान को,
    दूसरी तरह के इंसानों को
    साथ ले kar चलना सिखाती हो.
    तुम सारे अमन के मज़हब,
    किताबें सब तुम्हारी शांति की हैं.
    जिन में हर कहानी ख़ूनी जंग,
    बेईमान तख़्ता-पलट और फर्जी़ क्रांति की है.
    तुम चिल्ला चिल्ला कर मज़हब को मज़बूत साबित करते रहना.
    हम ख़ामोशी से इंसानियत के बीज बो जायेंगे.
    तुम बार बार अपनी परवरिश की औक़ात दिखाते रहना.
    हम उतनी ही बार इस मिट्टी की रिवायत पर अड्डे रहेंगे.
    अबके जो आओ क़त्ल करने तो अकेले मत आना.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *